प्रवासी राजस्थानीयों में सर्वाधिक लोकप्रिय

गहलोत सरकार ने 22 जिलों में 30 जून तक बढ़ाई निषेधाज्ञा

जयपुर. राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने कोविड-19 से बचाव और मानव जीवन की रक्षा के लिए अहम निर्णय लिया है. सरकार ने धारा 144 की समय-सीमा राज्य के 22 जिलों में 30 जून तक बढ़ा दी है. प्रदेश के गृह विभाग के विशिष्ट शासन सचिव पीसी बेरवाल का हस्ताक्षर वाला आदेश देर रात जारी किया गया. इसके अनुसार, अब जिला मजिस्ट्रेट अपने-अपने जिलों में 30 जून तक निषेधाज्ञा बढ़ाने के आदेश जारी कर सकते हैं.

इन जिलों में बढ़ाई निषेधाज्ञा
अजमेर, नागौर, टोंक, बीकानेर, हनुमानगढ़, जयपुर, अलवर, दौसा, झुंझुनू, सीकर, जोधपुर, जैसलमेर, बारा, बूंदी, भरतपुर, सवाई माधोपुर, चित्तौडग़ढ़, प्रतापगढ़, बांसवाड़ा, श्रीगंगानगर, डूंगरपुर और जयपुर जिला कलेक्टर्स ने दंड प्रक्रिया की संहिता 1973 की धारा 144 द्वारा प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए 18 मार्च को निषेधाज्ञा लागू की थी.

राज्य सरकार ने दंड प्रक्रिया की संहिता 1973 की धारा 144 की उप धारा 4 परंतुक द्वारा प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए कोरोना वायरस से मानव जीवन एवं स्वास्थ्य की रक्षा के लिए निषेधाज्ञा 30 जून तक बढ़ा दी. गहलोत सरकार कोरोनावायरस को रोकने के लिए मुस्तैदी के साथ कार्य कर रही है, लेकिन जिस तरह प्रवासियों और श्रमिकों के आने से कोरोना के केसों में बढ़ोतरी हो रही है उससे सरकारी मशीनरी की मुश्किलें बढ़ गई हैं.

Comments are closed.