प्रवासी राजस्थानीयों में सर्वाधिक लोकप्रिय

जैन मन्दिर से अष्टधातु की प्राचीन मूर्तिया हुई चोरी

टोंक. पुरानी टोंक थाने से करीब सौ मीटर दूर माणक चौक स्थित श्री 1008 श्री नेमीनाथ दिगंबर जैन मंदिर, सोनीयान से शुक्रवार रात को अष्टधातु की 21 प्राचीन मूर्तियां चोरी चली गईं। शनिवार सुबह जैन समाज के श्रद्धालु़ओं को मंदिर में पूजा-अर्चना करने आने पर अंदर के चैनल गेट के ताले टूटे मिलने पर चला।

एएसपी ने चोरों को पकडऩे के लिए टीम गठित की है। पुरानी टोंक थाने से करीब सौ मीटर दूरी पर ही पांच मंदिर के नाम से श्री 1008 श्री नेमीनाथ दिगंबर जैन मंदिर,सोनीयान मंदिर है। इसमें अष्टधातु, चांदी आदि की 24 प्राचीन मूर्तियां शुक्रवार तक रखी हुई थी। इसके अलावा यंत्र, दानपात्र आदि थे। शुक्रवार देर रात करीब दस बजे इसके गेट बंद दिए गए थे। अल सुबह करीब 5 बजे श्रद्वालु आए तो उन्हें मंदिर का मुख्य दरवाजा तो बंद मिला, लेकिन दूसरे नंबर का चैनल गेट का ताला टूटा हुआ मिला।

खुलासे के लिए नौ सदस्यीय टीम गठित श्रद्धालुओं ने मंदिर में भगवान की मूर्तियों आदि को देखा तो उनमें से 21 मूर्तियां समेत पीतल के यंत्र, तांबे के स्टैंड, पंच मैरू दान पात्र आदि नहीं मिले। कुछ देर बाद पुरानी टोंक पुलिस मौके पर पहुंची। बाद में एसपी आदर्श सिधू,एएसपी विपिन शर्मा समेत अन्य अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और चोरी की वारदात की पूरी जानकारी ली। एएसपी शर्मा ने मंदिर में चोरी करने वालों की धरपकड़ के लिए डीएसपी सौरभ तिवाडी के निर्देशन में नौ सदस्यीय पुलिस टीम गठित की है।


ये मूर्तियां हुईं चोरी मंदिर में शुक्रवार रात हुई चोरी को लेकर शनिवार सुबह घटना स्थल पहुंची पुरानी टोंक थाना पुलिस को रमेश पुत्र माणकचंद छाबड़ा ने शनिवार सुबह घटना स्थल पर पहुंचे पुरानी टोंक थानाधिकारी बंशीलाल पांडर को करीब साढ़े बजे रिपोर्ट दी है। इसमें बताया कि चोरों ने अष्टधातु की भगवान नेमीनाथ जी की मूर्ति, सिद्व भगवान की,पार्श्वनाथ भगवान की अष्टधातु की मूर्तियों समेत 21 मूर्तियां अष्टधातु, चांदी आदि से बनी चोरी हुई है। इनके अलावा छह पीतल के यंत्र, दो तांबे के यंत्र, दो तांबे के मय स्टैंड लगे यंत्र, दो दानपात्र, चांदी के पांच पंच मैरू आदि चोरी हुए है।

Comments are closed.